चुनावी रंजिश में गोलियों और आगजनी के बाद बवाल

| बड़ी ख़बरे
firing-in-Karak

लखनऊ न्यूज 30 ब्यूरो- सूबे की सरकार के लिए ग्राम प्रधानी चुनाव शान्तिपूर्ण तरीके से कराना कठिन होता जा रहा है। चुनावी रंजिश में ताबड़तोड़ गोलियां और आगजनी का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले जा रहा है। मडियांव के घैला गांव में दबंग प्रधान प्रत्याशी अपने समर्थकों के साथ दूसरे प्रत्याशी और उसके सामर्थकों की लात-घुंसों से पिटाई कर दी। विरोध पर जमकर गोलियां चलीं और लाठियां चटकीं। यही नहीं आगजनी में दो बाइकें और एक गुमटी भी जला दी गई। खूनी संघर्ष में दोनों पक्षों के लोग घायल हुए हैं। मौके पर पहुंची पुलिस जिसके बाद मामला शांत हुआ। पुलिस ने घायलों को उपचार के लिए भर्ती कराया और आधा दर्जन लोगों को हिरासत में ले लिया है। गांव में तनाव को देखते ही पुलिस बल तैनात किया गया है। वहीं दोनों पक्षों ने पुलिस को तहरीर दी है।
घैला गांव निवासी सिद्वनाथ गौतम ने बताया कि उनकी घर के बाहर किराने की दुकान है। दुकान पर उनकी 14वर्षीय बेटी पुष्पा बैठी थी। तभी गांव के प्रधान प्रत्याशी उवैद उर्फ कल्लू, अपने समर्थक मुन्ना उर्फ फारूख, सलीम, सलमान, मोहम्मद और दर्जनभर अज्ञात लोगों के साथ वहां पहुंचे। सिद्वनाथ का आरोप है कि वह घर पर नहीं थे इस पर उवैद अपने समर्थकों के साथ गाली गलौच करने लगा। परिजनों ने मना किया तो वह किराने की दुकान वाली गुमटी में तोड़फोड़ शुरू कर दिये। दबंगों ने विरोध पर 14वर्षीय पुष्पा और उसकी मां की जमकर पिटाई कर दी। आरोप है कि दबंग प्रधान प्रत्याशी साथियों के साथ मिलकर किराने की गुमटी में आग लगा दी। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि सिद्वनाथ के घर ताडंव करने के बाद दबंग असलहे लहराते हुए इरफान के घर पहंचे थे। इरफान का आरोप है कि वह घर के अंदर इंजन की मरम्मत कर रहा था। तभी दबंग उसकी पिटाई शुरू कर दिये। बीच बचाव करने आई उसकी पत्नी परवीन, बहन आशमा और मां शमसुन निशा की भी पिटाई कर दी। इरफान का आरोप है कि घर में खड़ी प्रधान प्रत्याशी फैनू की बाइक में दबंगों ने आग लगा दी। दबंगों का कहर यही नहीं थमा। वह इरफान के घर से कुछ दूरी पर उसके चाचा बैयजाद अली की किराने की दुकान में घुसकर तोड़फोड़ किये और नगदी लूट ले गए। वहीं दबंगो ने रास्ते में मिले अरमान पुत्र इलियास व फाजिल पुत्र खादिम को भी पीट दिया। ग्रमीणों के मुताबिक दबंगो ने एक अपनी ही बाइक को आग के हवाले कर चार पहिया वाहनों से सवार होकर गांव से रफूचककर हो गये।
घैला गांव में तांडव मचाने वाला प्रधान प्रत्याशी और उसके समर्थक पूर्व राज्य मंत्री इकबाल के समर्थक हैं। सूत्रों का कहना है कि उवैद पूर्व राज्यमंत्री के इशारों पर ही चुनाव लड़ रहा है। साथ ही चुनाव में आने वाला खर्च भी उसके द्वारा ही दिया जा रहा है। यह कोई पहला मालमा नहीं है, जब पूर्व राज्यमंत्री का नाम विवादों में आया हो। इससे पूर्व वह बारबंकी के टोल प्लाजा में अपने समर्थकों के साथ जमकर गुंडई की थी। वारदात टोल प्लाजा के सीसीटीवी कैमरें में कैद हुआ था। हलांकि सराकार के करीबी माने जाने के कारण पुलिस उस पर हाथ डालने से कतराती रही। पर मामले में सरकार पर चैरतरफा हमला होने के बाद पुलिस ने इकबाल को सराकर के इशारों पर गिरफ्तार किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please enter the Text *







'); var MainContentW = 1070; var LeftBannerW = 120; var RightBannerW = 160; var LeftAdjust = 10; var RightAdjust = 10; var TopAdjust = 80; ShowAdDiv(); window.onresize=ShowAdDiv; }