नेताजी का नया पैंतरा-खबरे

| बड़ी ख़बरे
Mulayam_PTI_360

लखनऊ न्यूज 30 ब्यूरो-मुलायम सिंह यादव के खिलाफ रिपोर्ट लिखवाने वाले निलंबित आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर को घेरने के लिए सरकार ने एक नयी चाल चली है। अमिताभ के खिलाफ चल रही विभागीय जांच में प्रदेश सरकार ने कई नए साक्ष्यों और गवाहों को शामिल किया है।राज्य के प्रमुख सचिव गृह देवाशीष पांडा के एक पत्र के अनुसार अमिताभ के खिलाफ पेश आरोपपत्र में पहले जहां कुल 18 अभिलेखीय साक्ष्य और पांच गवाह थे, वहीं इस नए आदेश के बाद 39 अभिलेखीय साक्ष्य और 20 गवाह हो गए हैं। इन 20 गवाहों में 10 आईपीएस और 3 आईएएस अधिकारी शामिल हैं।आईपीएस अफसरों में एडीजी चंद्र प्रकाश और तनूजा श्रीवास्तव, आईजी ब्रजभूषण शर्मा, एसपी साधना गोस्वामी, केएस इमैनुअल, दीपक कुमार और प्रीतिंदर सिंह समेत 10 आईपीएस शामिल हैं।आईएएस अफसरों में सीपी त्रिपाठी (पूर्व डीएम रामपुर), शुभ्रा सक्सेना (वर्तमान डीएम शाहजहांपुर) और भवनाथ (पूर्व डीएम इलाहाबाद) अमिताभ और नूतन के इन जगहों पर जाने से कानून-व्यवस्था पर पड़े प्रभाव की जानकारी देंगे।इसके साथ ही जांच में अब दस्तावेजी सुबूतों की संख्या 18 से बढ़ कर 39 हो गई है।इस सिलसिले में प्रमुख सचिव गृह देवाशीष पंडा ने अमिताभ ठाकुर को पत्र भेजा है, उसमें आरोपों के समर्थन में गवाहों और लिखित साक्ष्य में संशोधन का हवाला दिया गया है।बकौल अमिताभ ठाकुर आईपीएस अधिकारियों में उत्तराखंड के डीजीपी बीएस सिद्धू भी हैं।  अमिताभ और उनकी पत्नी डॉ. नूतन ठाकुर ने देहरादून में बीएस सिद्धू द्वारा वन विभाग की जमीन अनधिकृत रूप से हथियाने के संबंध में जांच की मांग और प्रेसवार्ता की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please enter the Text *







'); var MainContentW = 1070; var LeftBannerW = 120; var RightBannerW = 160; var LeftAdjust = 10; var RightAdjust = 10; var TopAdjust = 80; ShowAdDiv(); window.onresize=ShowAdDiv; }