प्राकृतिक रूप से ब्लड प्लेट्लेट्स बढ़ने वालेआहार

| लाइफस्टाइल
Platelets_Coagulation_Blood_Cells_800px

अगर आप कम होते प्लेट्लेट्स से परेशन है तो घबराए नही क्यूंकि  आप अपने आहार में कुछ फुड्स को शामिल कर ब्लड प्लेट्लेट्स को प्राकृतिक रूप से बढ़ा सकते है और खुद को पूरी तरह चुस्त-दुरुस्त भी कर सकते है.

शरीर में प्लेट्लेट्स की संख्या कम होने की स्तिति को थ्रॉंबोसीटपेनिया के नाम से जाना जाता है. एक स्वस्थ व्यक्ति में सामानया प्लेट्लेट काउंट ब्लड मई 150 हज़ार से 450 हज़ार प्रति माइक्रो लिटेर होती है. लेकिन जब यह काउंट 150 हज़ार प्रति माइक्रो लीटर के नीचे चला जाए तो इसे लो प्लेट्लेट माना जाता है.

कुछ ख़ास तरह की दवाई, आनुवांशिक रोग, कुछ ख़ास तरह के कॅन्सर, किमोतेरपी ट्रीटमेंट, अधिक आल्कोहॉल के सेवन और कुछ ख़ास तरह के बुखार जेसे डेंग, मलेरिया और चिकेनगुनिया के होने पर भी ब्लड प्लेट्लेट की संख्या कम हो जाती है. लेकिन घबराए नही क्यूकी कुछ आहार की मदद से आप ब्लड प्लेट्लेट्स को प्राकृतिक रूप से बढ़ सकते है.

नारियल पानी

शरीर में ब्लड प्लेट्लेट को बढ़ने मई नारियल पानी भी बहुत मददगार होता है. नारियल पानी मई एलेक्ट्रोलिट आक्ची मात्रा में होते है. इसके अलावा यह मिनरल का भी अक्चा सोर्स है जो शरीर मई ब्लड प्लेट्लेट की कमी को पूरा करने मई मदद करते है.
चुकंदर

चुकंदर का सेवन प्लेट्लेट को बढ़ने वाला एक लोकप्रिया आहार है. प्राकृतिक आंटी-ओक्षिदंत और हेमोस्टटिक गुनो से भरपूर होने के कारण, चुकंदर प्लेट्लेट काउंट को कुछ ही दीनो में बढ़ा देता है. अगर 2 से 3 चम्मच चुकंदर के रस को एक ग्लास गाजर के रस मई मिलकर पिया जाए तो ब्लड प्लेट्लेट तेज़ी से बढ़ती है. और इसमे आंटी-ऑक्सिडेंट्स की मोजूद्गी के कारण यह शरीर की प्रतिरोधी क्षमता भी बढ़ते है.

पपीता

पपीते के फल और पत्तियाँ दोनो का ही इस्तेमाल कुछ ही दीनो के भीतर कम प्लेट्लेट को बढ़ने में मदद करता है. 2009 में, मालसिया मई विज्ञान और प्रोद्योगिकी के एशिया संस्था मई शोधकर्ताओ ने पाया की डेंग बुखार में गिरने वेल प्लेट्लेट को पपीते के पत्ते के रस के सेवन से बढ़ाया जा सकता है. आप चाहे तो पपीते की पत्तियो को छाई की तरह भी पानी में उबालकर पी सकते है, इसका स्वाद ग्रीन टी की तरह लगेगा.

अमला

प्लेट्लेट को बढ़ने के लिए अमला लोकप्रिया आयुर्वेदिक उपचार है. अमला में मौजूद भरपूर मात्रा मई विटामिन सी प्लेट्लेट के उत्पादन को बढ़ने और आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने मई मदद करता है. नियमित रूप से सुबह के समय खाली पेट 3-4 अमला खाए. यह आप 2 चम्मच अमला का जूस मई शहद मिलकर भी ले सकते है.

कद्दू

कद्दू कम प्लेट्लेट्स काउंट में सुधार करने वाला एक और उपयोगी आहार है. यह विटामिन ए से सम्रद्ध होने के कारण प्लेट्लेट के उचित विकास का समर्थन करने में मदद करता है. यह कोशिकाओ में उत्पादित प्रोटीन को नियंत्रित करता है, जो प्लेट्लेट के लेवेल को बढ़ने के लिए महत्वपुर्णा होते है. कद्दू के आधे ग्लास जूस में एक से दो चम्मच शहद डालकर दिन में 2 बार लेने से भी ब्लड मई प्लेट्लेट की संख्या बढ़ती है.

गिलोय

गिलोय का जूस ब्लड मई प्लेट्लेट्स को बढ़ने मई काफ़ी मददगार होता है. डेंगू के दौरान नियमित रूप से इसके सेवन से ब्लड प्लेट्लेट्स बढ़ने लगती है . 2 चुटकी गिलोय के सत्व को एक चम्मच शहद के साथ दिन में 2 बार ले, फिर गिलोय की दांडी को रात भर पानी में भिगो कर सुबह उसका चना हुया पानी पी ले. इससे ब्लड मई प्लेट्लेट्स बढ़ने लगते है.

पालक

पालक विटामिन K का एक अcछा सोर्स है और अक्सर कम प्लेट्लेट विकार के इलाज में मदद करने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है. विटामिन क सही तरीके से होने वाली ब्लड काउंटिंग के लिए आवश्यक है. . 2 कप पानी में 4 से 5 ताज़ा पालक के पत्ते को डालकर कुछ मिनिट्स के लिए उबाल ले इसे ठंडा होने के लिए रख दे. फिर इसमे आधा ग्लास टमाटर मिला दे. इस मिश्रण को दिन में 3 बार पिए. इसके अलावा आप पालक का सूप, सलाद, स्मूती या सब्जी के रूप में भी इसका सेवन कर सकते है.

उपर आपने जाने केसे कम प्लेट्लेट्स को आप प्राकृतिक तरीके से बढ़ा सकते है. तो आज ही से अगर आप भी लो प्लेट्लेट्स काउंट से परेशन हो रहे है तो इन्न प्राकृतिक चीज़ो का सेवन करे और स्वस्थ रहे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please enter the Text *







'); var MainContentW = 1070; var LeftBannerW = 120; var RightBannerW = 160; var LeftAdjust = 10; var RightAdjust = 10; var TopAdjust = 80; ShowAdDiv(); window.onresize=ShowAdDiv; }