अखबार देखने को उतावला हुआ छोटा राजन ति‍हाड़ में

| ख़बरें अब तक
Indian fugitive Rajendra Sadashiv Nikalje, known in India as "Chotta Rajan," center, is escorted by plain-clothed police officers for questioning in Bali, Indonesia, Thursday, Oct 29, 2015. The alleged organized crime boss, wanted for alleged involvement in several mafia killings and other major crimes in his homeland, was arrested Sunday after arriving at Bali's airport from Sydney based on information from Interpol and Australian authorities. (AP Photo/Firdia Lisnawati)

तिहाड़ जेल में बंद छोटा राजन जब सो कर उठा तो उसने सबसे पहले अखबार की मांग की। उसकी पहली मांग अखबार थी। अखबार मिलते ही वह अपनी खबरों को नजर गड़ा कर पढ़ने लगा। इन दिनों उसकी पूरी चिंता अपनी छवि को लेकर है।
तिहाड़ में अंडरवल्र्ड डॉन छोटा राजन की पहली रात बहुत आराम से गुजरी। जेल सूत्रों की माने तो नए आशियाने में छोटा राजन अपने आपको सुरक्षित महसूस कर रहा है, क्योंकि वह किसी भी हालत में मुंबई नहीं जाना चाहता है। सूत्रों के मुताबिक छोटा राजन मुंबई में डॉन दाउद इब्राहिम के गुर्गे से अपने आपको असुरक्षित महसूस करता है।
छोटा राजन के साथ जेल में अन्य कैदियों जैसा बर्ताव किया जा रहा है। डॉन को उसके स्वास्थ्य के हिसाब से खाना मुहैया कराया जा रहा है। उधर, तिहाड़ में राजन के पहुंचने के बाद सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। जेल परिसर में छोटा राजन के सेल को त्रिस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था से घेर दिया गया है।
साथ ही सीसीटीवी कैमरों के जरिए उसके सेल की निगरानी हो रही है। वहीं, जेल की चारदीवारी के बाहर भी सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। भारत तिब्बत सीमा पुलिस व सीआरपीएफ के जवान तैनात किए गए हैं। सूत्रों के मुताबिक राजन के वार्ड के बाहर दो नए टावर लगाए गए हैं, जिससे कि वार्ड के चारों ओर की गतिविधियों पर नजर रखी जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please enter the Text *







'); var MainContentW = 1070; var LeftBannerW = 120; var RightBannerW = 160; var LeftAdjust = 10; var RightAdjust = 10; var TopAdjust = 80; ShowAdDiv(); window.onresize=ShowAdDiv; }