500 रूपये के नए नोट छापने में सरकार ने खर्च किए इतने हजार करोड़

| slider top ख़बरें अब तक देश
Government spent thousand crore rs on printing 500rs note

नोटबंदी का साइड इफेक्ट अब दिखने लगा है। मोदी सरकार ने जिस तरह से देश में नोटबंदी लागू की उससे आम जनता को क्या क्या परेशानी झेलनी पड़ी और इस परेशानी के सामना करते हुए कितने लोगों की जान चली गई,ये तो सबको पता है। लेकिन इस नोटबंदी के बाद नोट को छापने में सरकार ने कितने पैसे खर्च किए यह अब सामने आया है।

केंद्र सरकार ने लोकसभा में बताया कि नोटबंदी के बाद पांच सौ रुपये के नए करेंसी नोट को छापने में पांच हजार करोड़ खर्च हुए। लोकसभा में वित्त राज्य मंत्री पी राधाकृष्णन ने अपने लिखित जवाब में बताया कि इस साल आठ दिसंबर तक 1695.7 करोड़ के पांच सौ रुपये के नए नोटों की छपाई हुई। वहीं अपने जवाब में मंत्री राधाकृष्णन ने संसद को बताया कि पांच सौ रूपये के नए नोट को छापने के लिए सरकार को लगभग पांच हजार करोड़ रुपये खर्च करने पड़े।




मंत्री ने ये भी बताया कि आरबीआई ने दो हजार के 365.4 करोड़ नए नोट छापे। जिसे छापने की लागत 1293 करोड़ रुपये आई। वहीं दो सौ रूपये के 178 करोड़ नए नोट छापे गए। जिसपर 522 करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च हुए। वहीं वित्त राज्य मंत्री ने लोकसभा में बताया कि नोटबंदी के बाद 50, 200, 500 और 2 हजार के नए नोट बाजार में लाए गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please enter the Text *







'); var MainContentW = 1070; var LeftBannerW = 120; var RightBannerW = 160; var LeftAdjust = 10; var RightAdjust = 10; var TopAdjust = 80; ShowAdDiv(); window.onresize=ShowAdDiv; }