बिना एक रुपये खर्च कर 6 बार चुनाव जीत चुके है ये विधायक

| ख़बरें अब तक खास खबरे राज्य
Junagarh mla mahendra mashru simple man

जहां एक तरफ चुनाव आते ही नेता और प्रत्याशी पैसो को पानी की तरह बहा कर प्रचार प्रसार करते है वहीं जूनागढ़ से छह बार विधायक रह चुके महेंद्र लाल मशरू ऐसे प्रत्याशी हैं जिन्हें प्रचार के लिए पैसों की कोई जरूरत नहीं पड़ती है । वे अकेले ही पैदल घूमकर लोगों से मिलते हैं। उनकी सादगी को देख हर कोई दंग रह जाता है। बीजेपी ने महेंद्र लाल मशरू को जूनागढ़ से टिकट दिया है, मशरू पिछले 6 बार से वे यहां से विधायक हैं और सातवीं बार फिर चुनावी मैदान में उतरे हैं ।

मशरू की सादगी को देख हर कोई दंग रह जाता है। वे सैलरी तो नहीं ही लेते हैं । बैंक से रिटायर होने के बाद से वो अपनी बैंक की पेंशन भी नहीं लेते हैं । उनके पास खुद का वाहन नहीं है, विधायक निवास से विधानसभा तक विधायकों को लाने-ले जाने के लिए राज्य सरकार जो बस चलाती है, वह उसी से सदन जाते हैं। बाकी ज्यादातर पैदल ही चलते है । सादगी पसंद मशरू ने शादी भी नहीं की है और वे एक कमरे में ही रहते हैं।

मशरू के मुताबिक जब वो पहली बार चुनाव जीतकर आए थे तो उनकी मां ने कहा कि यदि जनता की सेवा करना है तो कोई सरकारी सुविधा न लेना। मां के कहे इन शब्दों पर आज भी वो चल रहें हैं । मशरू 1990 से चुनाव लड़ रहे। 1995 में वे बतौर निर्दलीय प्रत्याशी चुनाव लड़े। इस चुनाव में एतिहासिक जीत हासिल की थी। उन्होंने भाजपा-कांग्रेस समेत अन्य सभी प्रत्याशियों को इतने भारी अंतर से हराया कि सबकी जमानत जब्त हो गई थी।



बाद में वे भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए और 1998 से लेकर 2012 तक सभी चुनाव भाजपा के बैनर तले ही चुनाव लड़ते और जीतते आए हैं। मशरू साफ सफाई पंसद है, हर साल कार्तिक पूर्णिमा तक जूनागढ़ में गिरनार पहाड़ी की परिक्रमा के दौरान वो मार्ग से कचरा बीनते हैं। यह काम करते हुए उनके चेहरे पर तनिक भी झिझक नहीं दिखाई देती कि वे एक विधायक हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please enter the Text *







'); var MainContentW = 1070; var LeftBannerW = 120; var RightBannerW = 160; var LeftAdjust = 10; var RightAdjust = 10; var TopAdjust = 80; ShowAdDiv(); window.onresize=ShowAdDiv; }