दिन पर दिन उलझती जा रही नमन वर्मा हत्याकांड की गुथ्थी

| ख़बरें अब तक
murder
लखनऊ न्यूज 30 ब्यूरो– होटल रेनेसां के एग्जिक्यूटिव नमन वर्मा की हत्या का राज उलझतला ही जा रहा है। हत्या के बाद न तो पुलिस को नमन की बाइक हाथ लगी और न हत्या की वजह स्पष्ट हो सकी। पुलिस नमम की डायरी, सीडीआर सहित अन्य पहलुओं पर भी छानबीन की लेकिन कोई सुराग नहीं मिल पा रही है। बताया जा रहा है कि लाखों रुपये कीमत की बाइक नमन ने लखनऊ पहुंचते ही खरीदी थी। जिस दिन वारदात हुई उस दिन नमन इसी बाइक से होटल से निकला था। लेकिन उसका शव तो बरामद हो गया लेकिन बाइक का पता नहीं चल सका।
मडियांव के महर्षि नगर निवासी सर्राफ महेंद्र वर्मा का बेटा नमन वर्मा (20) गोमतीनगर के पांच सितारा होटल में एक्जक्यूटिव था। वह बीते बुधवार रात करीब आठ बजे होटल से बाइक लेकर घर के लिए निकला था। विभूतिखंड इलाके में मधुरिमा होटल के पास उसका शव खून से लथपथ पड़ा हुआ था। पुलिस ने हत्या की घटना को छिपाने के लिए आनन-फानन में हादसा बता दिया और परिनजों के सुपुर्द शव को दे दिया। परिजनों को आशंका हुई तो उन्होंने शव का पोस्टमार्टम कराया जिसमे डॉक्टरों ने गोली मारकर नमन की हत्या करने की पुष्टि कर दी। बाद में पुलिस ने अधिकारियों की फटकार के बाद हत्या का मुकदमा दर्ज कर पड़ताल शुरू की। पुलिस ने मृतक नमन की कॉल डिटेल खंगाली तो उसमे एक युवती और दो युवकों के नंबर मिले। पुलिस ने युवती समेत दोनों युवकों से पूछताछ की तो उन्हें कई और लोगों की भी जानकारी हाथ लगी। इतना ही नहीं पुलिस ने इस मामले में संदेह के घेरे में आई युवती की फोन डिटेल खंगाली तो कई चैकाने वाली बातें भी सामने आई है। जबकि एक युवती और दो युवक  और भी इस मामले में सामने आ गए। जल्द ही पुलिस इनसे भी पूछताछ कर सकती है। इन सबके बीच पुलिस मामले की पड़ताल में जुटी ही थी कि बीती रात नमन के परिजनों को एक गुमनाम खत मिला। जिसमे परिजनों को धमकाया गया था। पीडि़त परिवार ने पुलिस को खत सौंप दिया है। पुलिस जल्द ही संदेह के घेरे में आए लोगों से फिर से पूछताछ कर खत के बारे में पूछताछ कर सकती है। चर्चा है कि घटना वाले दिन नमन के शव के पास एक क्रीम कलर की इनोवा गाड़ी खड़ी थी जिस पर एक राष्ट्रीय स्तर पार्टी का झंडा लगा हुआ था। लेकिन वह जैसे ही वहां पहुंचा इतने में इनोवा वहां से चली गई। वह गाड़ी का आधा ही नंबर नोट कर सका जिसे उसने पुलिस को दे दिया। लेकिन पुलिस अभी तक इनोवा गाड़ी की जानकारी नहीं जुटा सकी है।
नमन वर्मा हत्याकांड में पुलिस के हर तीर फेल हो गए। बावजूद इसके वह कड़ी से कड़ी जोड़ कर किसी किनारे पर पहुंचना चाहती है। यही वजह है कि पुलिस नमन के मोबाइल की सीडीआर बारीकी से खंगाल रही है। घटना से दो दिन पहले तक जिन नंबरों से नमन की अधिक बात हुई है पुलिस ने उन नंबरों की भी सीडीआर खंगाली है। पुलिस अब एक एक कड़ी को जोड़ कर चल रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please enter the Text *







'); var MainContentW = 1070; var LeftBannerW = 120; var RightBannerW = 160; var LeftAdjust = 10; var RightAdjust = 10; var TopAdjust = 80; ShowAdDiv(); window.onresize=ShowAdDiv; }