पिता विधायक और विधानसभा में बेटा बना चपरासी, जाने क्या है पूरा मामला

| ख़बरें अब तक ख़बरें जरा हटके राज्य
Rajasthan mlas son appointed as peon in assembly

राजस्थान में सत्तारूढ़ पार्टी बीजेपी के एक विधायक के बेटे को विधानसभा में चपरासी की नौकरी मिली है। जमवारागढ़ के विधायक जगदीश मीणा के बेटे रामकृष्ण उन 18 चपरासियों में शामिल है जिनकी हाल ही में नियुक्ति की गई है। लेकिन इस नियुक्ति के बाद विधायक पर सवाल उठने लगे हैं । आरोप लग रहे हैं कि विधायक ने अपने दसवीं पास बेटे को रसूख के बल पर चपरासी बना दिया ।

दसअसल राजस्थान विधानसभा में चपरासी के पद के लिए 18 पोस्ट निकले थे जिस पर करीब 25,000 लोगों ने आवेदन किए थे । इनमें से करीब 10 हजार बीए, एमए, डबल एमए, एमटेक और कुछ तो पीएचडी भी शामिल थे। लेकिन इस नौकरी में इनका सलेक्शन न होकर दसवीं पास बीजेपी विधायक के बेटे का चपरासी के पद पर सलेक्शन होना चर्चा का विषय बना हुआ है ।

हालांकि, विधायक मीणा का कहना है कि उनका बेटा रामकृष्ण अपनी मेहनत के दम पर चयनित हुआ है। मीणा के मुताबिक, ‘रामकिशन मेरे चार बच्चों में सबसे बड़ा है इसलिए उसे खेतों और छोटे भाई-बहनों का ध्यान भी रखना पड़ता है। इस वजह से वह हाई स्कूल से ज्यादा नहीं पढ़ पाया। विधायक मीणा ने कहा मेरे बेटे का चयन एक प्रक्रिया के बाद हुआ है और इसमें कुछ भी असामान्य नहीं है। ये पूछने पर कि वह अपने बेटे को राजनीति में क्यों नहीं लाए, मीणा ने कहा कि राजनीति सबके बस की बात नहीं है।




वहीं इस मामले में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट ने उच्च स्तरीय जांच की मांग की है। पायलट का कहना है कि इस भर्ती में सभी आवेदनकर्ताओं की भर्ती सिफारिश के आधार पर की गई है। इनमें भाजपा नेताओं के रिश्तेदार भी शामिल हैं। इसकी उच्च स्तरीय जांच कराई जानी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please enter the Text *







'); var MainContentW = 1070; var LeftBannerW = 120; var RightBannerW = 160; var LeftAdjust = 10; var RightAdjust = 10; var TopAdjust = 80; ShowAdDiv(); window.onresize=ShowAdDiv; }