साहित्यिक जश्न,लखनऊ लिटरेचर कार्निवाल

| विशेष
llll

लखनऊ न्यूज 30 ब्यूरो- अपनी संस्कृति, सभ्यता और साहित्य के लिये पूरे देश में मश्हूर नवाबों की नगरी किसी भी आयोजन के लिये लोगों की पहली पसंद होती है। लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित हुआ तीन दिवसीय साहित्यिक जश्न ‘लखनऊ लिटरेचर कार्निवाल ।साहित्य के इस जश्न में सिर्फ किताबों से ही नही, साहित्य की जमीन और धरोहरों के साथ साथ मनोरंजन की बहुत सी शाखाओं लखनऊवासी रुबरु हुए।आयोजन में लेखन पर बात करने के लिये जहां कई हस्तियों ने शिरकत की तो वहीं लेखन को मनोरंजन जगत में अभिव्यक्ति का आधार बनाने वाली कौसर मुनीर और स्वानन्द किरकिरे भी मौजूद थे। अगर गंभीर मुद्दों पर बात करने के लिये शबाना आज़मी जैसे प्रसिद्ध नाम ने शिरकत की तो व्यंग को आधार बना कर समाज की तकलीफों को उजागर करने वाले अनूप मणि त्रिपाठी और आलोक शुक्ला भी नज़र आए।लखनऊ के नये और पुराने दौर का सामंजस्य बनाते हुए पूरे आयोजन के दौरान ‘विंटेज कार’ के प्रदर्शन और ‘कालिग्राफी वर्कशाॅप’ जैसे मुख्य आकर्षणों ने दर्शकों को खूब लुभाया।तीन दिन तक चले इस आयोजन में जहाँ ‘टॉम ऑल्टर’ जैसे मंझे हुए कलाकार ‘दोज़खनामा’ नामक नाटक का मंचन कर अपनी छाप छोड गए,वहीं ‘सत्या सरन’ ने जगजीत सिंह के संगीत की दुनिया के सफ़र से गज़ल प्रेमियों को रुबरू करवाया।लखनवी व्यंजनों के साथ जब सुफियाना महफिल सजी तो लखनऊ के लोग अपनी विरासत में खो गये।कुल मिला कर यह कह सकते हैं, अपने नाम को पूरी तरह सत्यापित करते हुए यह साहित्यिक जश्न लखनऊ वासियों के दिलों में ना सिर्फ लेखन बल्कि संगीत और संस्कृति की भी एक अलग छाप छोड गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please enter the Text *







'); var MainContentW = 1070; var LeftBannerW = 120; var RightBannerW = 160; var LeftAdjust = 10; var RightAdjust = 10; var TopAdjust = 80; ShowAdDiv(); window.onresize=ShowAdDiv; }